Thursday, November 13, 2008

उस पार चलो

हम तो जाते हैं दिलदार .'चाँद के पार
यहाँ आपको क्या कष्ट है यार
इस पार प्रिये तुम हो ,गम है , बम है
उस पार तो कुछ अच्छा होगा

जीवन अनिश्चित का धर्मशास्त्र
अपराधी के अधिकार का विधिशास्त्र
पुत्री ,दुल्हन ,रक्षाकर्मी की मौत का कर्म शास्त्र

केन्टीन में प्लेट धोने बच्चे मजबूर
इज्जत और बैंक लुटने का यहाँ दस्तूर
जनता के नौकर जनता के सेवक से पिटते हैं
दूल्हा ,वोट और जनता के प्रश्न यहाँ बिकते हैं
ये नियति शास्त्र है

जिंदा रहेगी लुटेगी पिटेगी
सर मुंडवा कर कोने में पड़ेगी
हक की तो बात क्या दानों को तरसेगी
उपेक्षा ,निराशा ,उत्पीडन की आशंका से विधवा जल गई
मन्दिर बन गया आरती उतर गई
ये यहाँ का रीतिशास्त्र है

पाँच किलो वजनपर सातकिलो का बस्ता बुध्धिशास्त्र है
और दवा मेह्गी कफ़न सस्ता ये यहाँ का अर्थशास्त्र है
उस पार शास्त्र तो कम होंगे
उसपार तो कुछ अच्छा होगा

15 comments:

अभिषेक ओझा said...

कई सच्चाइयां... ये बहुत पसंद आई:
"पाँच किलो वजनपर सातकिलो का बस्ता बुध्धिशास्त्र है
और दवा मेह्गी कफ़न सस्ता ये यहाँ का अर्थशास्त्र है"

गौतम राजरिशी said...

बड़े दिनों बाद दिखे...और छा गये....कहीं बच्चन तो कहीं पाकिजा...इस अदा पे सुभानल्लाह
और हंस के नवंबर अंक में आपके दो खत छपे हैं हुजूर , मेरे नहीं...

सतीश सक्सेना said...

मज़ा आगया भाई जी ! सुबह सुबह चाय के साथ आपकी हंसी ! शुभकामनायें आपको !

सतीश सक्सेना said...

इस पर प्रिये तुम हो गम है उस पर तो कुछ अच्छा होगा " ;-)
आपका ब्लाग का लिंक "मेरे गीत " पर दे रहा हूँ !

RC said...

Good lines ..

पाँच किलो वजनपर सातकिलो का बस्ता बुध्धिशास्त्र है
और दवा मेह्गी कफ़न सस्ता ये यहाँ का अर्थशास्त्र है
उस पार शास्त्र तो कम होंगे
उसपार तो कुछ अच्छा होगा

अल्पना वर्मा said...

इस पार प्रिये तुम हो ,गम है , बम है
उस पार तो कुछ अच्छा होगा
--
पाँच किलो वजनपर सातकिलो का बस्ता बुध्धिशास्त्र है
और दवा मेह्गी कफ़न सस्ता ये यहाँ का अर्थशास्त्र है

--aaj ki paristhitiyon se do char karaati-thodey mein bahut kuchh kah jaati hai aap ki rachna--

Jimmy said...

good work




visit my site

www.discobhangra.com

Jimmy said...

Bouth He Aacha Post Hai Ji

visit my site

www.discobhangra.com

Abhishek said...

इस पार प्रिये तुम हो ,गम है , बम है
उस पार तो कुछ अच्छा होगा
शायद आज बच्चन जी भी यही कहते. खूब लिखा है आपने. स्वागत मेरे ब्लॉग पर भी.

singhsdm said...

केन्टीन में प्लेट धोने बच्चे मजबूर
इज्जत और बैंक लुटने का यहाँ दस्तूर
जनता के नौकर जनता के सेवक से पिटते हैं
दूल्हा ,वोट और जनता के प्रश्न यहाँ बिकते हैं
ये नियति शास्त्र है
क्या बात है भाई बात मन को छू गयी. आगे भी लिखते रहिये.आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा.

Sachin Malhotra said...

shukriya brijmohan ji comment ke liye... or updata har blog par jaldi se jaldi karne ki koshish rahti hai , shayad kisi din na kar saka to us din busy hota hu kaaam mein.. or sahi kaha aapne sach kehna sachmuch aasan nahi hota magar ye b haqiqat hai ki sach bolne se bahut si mushkile jaldi hi hal bhi ho jaati hai...
aate rahiyega ...apka intzar rahega ..
take care

प्रदीप मानोरिया said...

गज़ब कर दिया श्रीमान श्रीवास्तव जी मज़ा आ गया

Akshaya-mann said...

ek jivant si rachna anmol bhav sundar prastutikarn ......
har ek muktak ek aaina ban haqiqat ko saamne lata hua bahut hi sashakt aur sadhi hui rachna man ko bahut hi accha laga padkar........


..aapka swagat hai….
“बदले-बदले से कुछ पहलू”
http://akshaya-mann-vijay.blogspot.com/

विनय said...

लगाम कस लो दुनिया वालों ब्रिज जी दौड़ाने वाले हैं!

sa said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛