Tuesday, December 23, 2008

नानी

नानी
नहीं सुनाती कहानी

दिन रात काम करती
जली कटी बातें सुनती

कभी बुआ की कभी पापा की
कभी दादी की कभी चाचा की
शिवजी ने पिया एक बार
नानी पीती है बार बार

है जर्जर पर काम बहुत करती है
तभी तो नानी हमारे पास रहती है
मजबूरी का नाम है नानी है
नानी ख़ुद है एक कहानी
इसीलिये नानी नहीं सुनाती कहानी

14 comments:

रश्मि प्रभा said...

nani ki vivash tasweer ko sahi shabdon me dhaala hai,
bahut achha likha hai......

मुकेश कुमार तिवारी said...

नानी, कितनी भी जली कटी सुनाये पर वहा नातियों/नातिनों के लिये हमेशा ही जिन्दा रहती है.
मुझे अपनी नानी के साथ बिताया पल-पल याद है, वस्तुत: नानी गैर जरूरी फरमाईशों को पूरी करने वाली होती है. लेकिन आज इस संस्था का अवमूल्यन पर आपकी करारी चोट है.

मुकेश कुमार तिवारी

JHAROKHA said...

Respected sir,
Aj hamare samaj ,parivar men khatam hote ja rahe bujurgon ke samman evam vivashta ko apne bahut achchhee tarah prastut kiya hai.

गौतम राजरिशी said...

क्या बात है वकील साब..भई वाह एक पूरी सच्ची तस्वीर इन चंद शब्दों में जो आपने उकेर दी

kmuskan said...

bahut aachi rachna
nani ke jariye bujurgo ki vivishta ko bahut sundrta se prstut kiya hai

प्रदीप मानोरिया said...

आपको बहुत बहुत बधाई सुंदर रचना

Shashwat Shekhar said...

"नानी ख़ुद है एक कहानी
इसीलिये नानी नहीं सुनाती कहानी"

"शिवजी ने पिया एक बार
नानी पीती है बार बार"

सादगी में भी क़यामत की अदा होती है, कम शब्द खर्च करके सागर निकालना कोई आपसे सीखे|

"मजबूरी का नाम है नानी है"
एक "है" हटा दें|

विनय said...

अनूठी रचना के लिए शब्द नहीं है मेरे पास

------------------------------------
http://prajapativinay.blogspot.com/

विनीता यशस्वी said...

Sunder rachna.

MUFLIS said...

naani ki kahaani..
aur aapki ki zbaani..
meharbaani..meharbaani.. !!
aasaan lafz..pukhta asar.
---MUFLIS---

RC said...

Bahut sundar rachana ..

शिवजी ने पिया एक बार
नानी पीती है बार बार

नानी ख़ुद है एक कहानी
इसीलिये नानी नहीं सुनाती कहानी

Dil ko chhoo gayi ye lines. Badhai.

Aur naya saal bahut bahut mubaarak.
God bless
RC

muskan said...

jeewan me sabse pyari maa,
aur bat jab maa ke maa ki ho to kya kahne.

रंजना said...

aapki lekhni ko naman

shama said...

Pehlee baar aapke blogpe aayee hun....aur "Nanee" ke peechhee chhupee satya kahanee kachot gayee...badehee sundar aur sankshipt dhangse aapne pesh kiya..."Tabhi to nanee rehtee hai..."!Kaam na kare to use kaun rakhega ? Kaisa dukhad sawaal hai....
Mere mukhy blog", The light by a lonely paath pe zaroor aayen...wahan katha, kahaniya, sansmaran, lalit lekh sab hai....ye to ek trail ke roopme post kar dee thee. Mai na lekhak hun na kavi...lekin kavita apne anubhavse likhee hai....iseeliye aapko mere blogpe aanekaa nyota de rahee hun..."Ek baar phir Duvidha" shrinkhala sansmaran ke roopme kadi dar kadi chalu hai...mai seedhehi online likhke post kar detee hun...mere paas waise koyi notebook diary nahee rehtee, jismese dekh ke likhti hun...haan! post karneke baad kuchh kavitayen apnee copyme zaroor utaar letee hun...
Raat be raat kabhi kuchh khayal aa jaye to copy saath leke sotee zaroor hun !